e-Commerce in Hindi? e-Commerce क्या होता है?

दोस्तो आपने यह e-commerce शब्द कई बार सुना होगा लेकिन इसके बारे मे आपको पूरी जानकारी शायद ही होगी। तो इस लेख मे हम जानेगे What is e-Commerce in Hindi?

और साथ ही साथ यह भी बताएगे कि यह कितने प्रकार का होता है और इसकी कार्यप्रणाली क्या है? तो सबसे पहले जानते है e-Commerce क्या होता है?

e-Commerce in Hindi

आसान शब्दो मे “किसी भी वस्तु या सेवा को इंटरनेट के माध्यम से खरीदना या बेचना e-Commerce कहलता है।” क्योकि, यहां e का अर्थ होता है “इलेक्ट्रोनिक” अर्थात इंटरनेट के माध्यम से और commerce का अर्थ होता है “व्यापार” अर्थात किसी भी बस्तु को खरीदना या बेचना।

आज के युग मे कई ऐसी प्रचलित websites है जो इंटरनेट के माध्यम से व्यापार कर रही है, जिन्हे e-Commerce Websites कहते है। जैसे कि Amazon, Flipkart, OLX, Snapdeal, Myntra, Fiverr, Freelancer, Upwork, इत्यादि।

e-Commerce in Hindi

Types of e-Commerce

आज हम स्वतंत्र रूप से अपने e-commerce business को कई तरह से चला सकते है लेकिन प्रमुख रूप से e-commerce के चार प्रकार होते है। तो चलिये एक एक करके जानते है types of e-commerce in Hindi.

1. Business to Business

जब कोई व्यक्ति या कंपनी व्यापार के उद्देश्य से अधिक मात्रा मे माल को इंटरनेट के माध्यम से खरीदता है तो इसे B2B या Business to Business e-commerce कहते है।

इसमे ग्राहक किसी भी प्रकार से शामिल नही होता है। सभी लेनदेन manufacturers, wholesalers, retailers इत्यादि के मध्य होते है।

2. Business to Consumer

यहाँ Company अपने समान तथा सेवाओ को प्रत्यक्ष रूप से consumer को बेचती है। सभी e-commerce companies की अपनी एक अलग website होती है जहां अपने सभी प्रोडक्टस को लिस्ट करती है।

ग्राहक directly इन websites पर visit करके अपनी पसंद के product को order कर सकता है। Product receive होने के बाद ग्राहक अपने Review देता है जो सभी लोगो के द्वारा उस website पर publicly देखे जा सकते है।

यह प्रक्रिया B2C (Business to Consumer) e-commerce कहलाती है। जैसे Amazon, Myntra, Flipkart, Jabong, Bigbasket इत्यादि।

3. Consumer to Consumer

यह e-commerce का बहुत ही पारदर्शी तरीका है। यहा consumer अपने सामान और संपत्ति को किसी दूसरे जरूरतमंद व्यक्ति को बेचता है या उससे कुछ अपने काम की वस्तु खरीदता है। यह प्रक्रिया C2C (Consumer to Consumer) e-commerce कहलाती है।

इसमे e-commerce website बनाने वाले को किसी भी प्रकार का कोई commission नही मिलता है। हालांकि वह अपनी website पर consumers के goods तथा assets की advertising के लिए पैसे ले सकता है। जैसे कि OLX, Quikr इत्यादि इस C2C e-commerce model पर आधारित है।

4. Consumer to Business

यह business to consumer का विपरीत होता है। यहाँ consumer अपने product या service को इंटरनेट के माध्यम से किसी जरूरतमन्द Business या company को उपलब्ध कराता है।

जेसे कि एक freelancer अपने हुनर तथा वक़्त को किसी Business के लिए उपयोगी बनाता है तो यह C2B e-commerce कहलाता है। इसके अलावा यदि एक programmer किसी company के लिए सॉफ्टवेर बनाता है तो यह भी C2B का एक उदाहरण है। Fiverr, Upwork, Cashify इसी पर आधारित है।

Conclusion:-

यहाँ हमने जाना e-commerce in Hindi उसके प्रकार और यह भी जाना की ये e-commerce models किस प्रकार कार्य करते है। यदि आप अपनी e-commerce website बनाना चाहते है तो यह हम Tools और Services की मदद से बहुत ही आसनी से कर सकते है।

e-commerce से संबन्धित एक अन्य business model “Dropshipping” है। यह नए investors के लिए काफी उपयोगी साबित हुआ है जिसे हम भी बहुत ही आसानी से कर सकते है।

जल्द ही जानेगे: Dropshipping क्या है? इसे किस प्रकार करते है?

यह भी पढ़िये:- Computer की Floppy Disk क्या है?

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *