Floppy Disk in Hindi | फ्लॉपी डिस्क क्या है और इसके प्रकार

दोस्तों, क्या आप जानते हैं कि फ्लॉपी डिस्क क्या है? और फ्लॉपी डिस्क के प्रकारों के बारे में। फ्लॉपी डिस्क 1970 के दशक से 1990 के दशक तक लोकप्रिय थे। यह सूचना और डेटा storage का मुख्य स्रोत था। उस समय के कारण, सीडी-रॉम इतने लोकप्रिय नहीं थे। तो आइए जानते हैं What is Floppy Disk in Hindi | फ्लॉपी डिस्क क्या है और इसके प्रकार.

Floppy Disk in Hindi

फ्लॉपी डिस्क ड्राइव (एफडीडी) एक डेटा स्टोरेज डिवाइस है, जिसे पहली बार 1969 में बनाया गया था। फ्लॉपी डिस्क में डेटा भंडारण के लिए एक लचीली और पतली चुंबकीय डिस्क का उपयोग किया गया था। यह डिस्क प्लास्टिक रैप से ढकी होती है और इस रैप के अंदर स्वतंत्र रूप से घूम सकती है।

5.25 इंच साइज वाली फ्लॉपी डिस्क को मिनी फ्लॉपी कहा जाता है, जबकि 3.5 इंच के size वाली फ्लॉपी डिस्क को माइक्रोफ्लॉपी कहा जाता है, जिसे कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता था।

अगर आप फ्लॉपी डेटा एक्सेस करना चाहते हैं तो आपके कंप्यूटर में एक फ्लॉपी डिस्क रीडर लगा होना चाहिए। जैसे CD-ROM को चलाने के लिए CD प्लेयर या CD रीडर की जरूरत होती है, वैसे ही फ्लॉपी डिस्क को एक्सेस करने के लिए फ्लॉपी रीडर की जरूरत होती है।

आप नीचे देख सकते हैं कि फ्लॉपी डिस्क कैसा दिखता था जो आजकल चलन में नहीं है। और बाजारों में भी इनका मिल पाना लगभग असम्भव है क्योंकि इनका उपयोग पूरी तरह से समाप्त हो चुका है।

Floppy disk in Hindi
Floppy disks

Floppy disk drive को अब सिर्फ हम बुक्स और आर्टिकल में ही देख या पढ़ पाते है। इसके अलावा ये हमारे कॉलेज तथा यूनिवर्सिटी में हमें अध्ययन के दौरान देखने को मिलती है। आपको फ्लॉपी डिस्क के बारे में कुछ जानकारी देने के लिए हमने यह Floppy Disk in Hindi article लिखा है

फ्लॉपी डिस्क के प्रकार:

Floppy disk तीन प्रकार की होती हैं। दरअसल, फ्लॉपी डिस्क को आकार के आधार पर विभाजित किया गया था। अलग-अलग फ्लॉपी डिस्क में अलग-अलग क्षमताएँ थीं। तो इस भ्रामक प्रश्न को छोड़ दें और फ़्लॉपी डिस्क के प्रकारों के बारे में विस्तार से जानते है।

8 इंच फ्लॉपी ड्राइव:

यह फ्लॉपी ड्राइव की 203 nm तकनीक पर आधारित थी। पहला फ्लॉपी 1960 में आईबीएम द्वारा बनाया गया था, लेकिन फ्लॉपी डिस्क को Read/Write device 1972 में उपलब्ध हो पाए थे।

इसका उपयोग केवल सामान्य डेस्कटॉप और लैपटॉप में किया जा सकता है क्योंकि इसकी क्षमता केवल 100KB (100000 अक्षर) थी। इसलिए, अच्छे और महंगे पीसी में इन 8-इंच फ्लॉपी ड्राइव का उपयोग नहीं किया गया था।

5.25-इंच फ्लॉपी ड्राइव:

यह पहली बार 1987 में सामान्य आकार के पीसी के लिए बनाया गया था, इसे 8 इंच की फ्लॉपी डिस्क का पूर्ववर्ती भी कहा जाता है। इस फ्लॉपी में एक जैकेट के माध्यम से चुंबकीय डिस्क को कवर किया जाता है। यह फ्लॉपी दोनों तरफ डेटा स्टोर कर सकती है और 5.25 इंच फ्लॉपी के तीन प्रकार होते थे।

  • DSDD फ्लॉपी (डबल साइडेड डबल डेंसिटी) – 720 KB
  • डीएसएचडी फ्लॉपी (डबल साइडेड हाई डेंसिटी) – 1.44 एमबी
  • DSEHD फ्लॉपी (डबल साइडेड एक्स्ट्रा हाई डेंसिटी) -2.88 MB

3.5 इंच फ्लॉपी ड्राइव:

यह सभी में सबसे छोटी फ्लॉपी ड्राइव थी। लेकिन इसका मतलब कम भंडारण क्षमता नहीं है। वास्तव में, इस फ्लॉपी में पिछले versions की तुलना में बहुत अधिक क्षमता थी।

अधिकतर इसका उपयोग सामान्य आकार के पीसी में किया गया था जो 400 केबी, 800 केबी और 1.2 एमबी के आकार के साथ double density (720 KB) और high density (1.44 एमबी) का समर्थन करता था।

3.5-इंच फ्लॉपी डिस्क ड्राइवरों को मानकीकृत किया गया था ताकि डेटा को आसानी से transfer किया जा सके। ये फ्लॉपी ड्राइव इसकी दक्षता और विश्वसनीयता का एक बहुत लोकप्रिय कारण बन गए।

तो इस तरह से, हम जाना कि Folppy Disk क्या है और यह कितने प्रकार की होती है। हालांकि अब इनका कोई उपयोग नहीं हैं लेकिन यह ही हमारे data storage drives की नींव है।

फ्लॉपी डिस्क का सम्पूर्ण इतिहास जानने के लिए आप विकपीडिया को visit कर सकते है

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *